स्वास्थ्य सेवाओं को इलाज की जरूरत

हर साल बजट पेश होने के बाद सार्वजनिक स्वास्थ्य पर होने वाली बहस सिर्फ एक आंकड़े के इर्द-गिर्द सिमट जाती है। दुर्भाग्य से यह आंकड़ा कभी बदलता भी नहीं। तर्क दिए जाते हैं कि स्वास्थ्य क्षेत्र में…

हर साल बजट पेश होने के बाद सार्वजनिक स्वास्थ्य पर होने वाली बहस सिर्फ एक आंकड़े के इर्द-गिर्द सिमट जाती है। दुर्भाग्य से यह आंकड़ा कभी बदलता भी नहीं। तर्क दिए जाते हैं कि स्वास्थ्य क्षेत्र में…

Read more at https://www.livehindustan.com/blog/story-avni-kapoor-in-hindustan-on-27-january-1769658.html